।।कुलगुरु संदेश।।

Picture of Chief Editor

Chief Editor

महाविद्या, देवी पार्वती के दस रूप हैं, जो अधिकांश तान्त्रिक साधकों द्वारा पूजे जाते हैं, परन्तु साधारण भक्तों को भी अचूक सिद्धि प्रदान करने वाली है। इन्हें दस महाविद्या के नाम से भी जाना जाता है। ये दसों महाविद्याएं आदि शक्ति माता पार्वती की ही रूप मानी जाती हैं।

 

कुलगुरू पंडित जवाहर लाल रैना से प्रेरणादायक कथा-कहानी, संदेश, धर्म चर्चा, स्वास्थ्य व औषधीय ज्ञान के लिए *कुलगुरु संदेश* कम्युनिटी को *join* करें। https://chat.whatsapp.com/GPSW5QzZo4o0jP494qSE5X

 

दस महाविद्या में प्रथम काली या महाकाली वह देवी हैं जो ब्रह्म का परम रूप है, और समय की भक्षक (कलिकाला प्रणालियों की सर्वोच्च देवी)।

 

महाकाली का रंग गहरा काला है, जो रात के अंधेरे से भी अधिक गहरा है। उनकी तीन आंखें हैं, जो भूत, वर्तमान और भविष्य का प्रतिनिधित्व करती हैं। उसके चमकदार सफेद, नुकीले दांत, खुला हुआ मुंह और उसमें से लटकती लाल, खूनी जीभ है। उसके बाल बिखरे हुए हैं। वह अपने वस्त्र के रूप में बाघ की खाल पहनती है, उसके गले में खोपड़ियों की माला और गुलाबी लाल फूलों की माला है और उसकी कमर पर कंकाल की हड्डियां, कंकाल के हाथ और साथ ही कटे हुए हाथ और हाथ उसके आभूषण के रूप में हैं। उसके चार हाथ हैं, उनमें से दो में त्रिशूल जिसे त्रिशूल कहा जाता है।

 

कुलगुरु पंडित जवाहरलाल रैना

9958092962

Chief Editor
Author: Chief Editor

Leave a Comment

Leave a Comment

इस पोस्ट से जुड़े हुए हैशटैग्स